Bikaner News : गोचर धरना स्थल पर नानी बाई का मायरा की संगीतमय कथा, देखें वीडियो

0
hellobikaner.in

सरकार गोचर मुद्दे पर समय रहते अपनी गलती सुधारे – भाटी

बीकानेर hellobikaner.in गोचर, ओरण व चारागाह की जमीन पर कब्जों को नियमन करने के राज्य सरकार के फैसले के बाद से बीकानेर में पूर्व मंत्री देवी सिंह भाटी शरह नथानियान गोचर भूमि में बेमियादी धरने पर 17 वें दिन साधु-संतों व धार्मिक कथाओं का आयोजन हो रहा है।

 

आज धरना स्थल पर नानी बाई के मायरे की संगीतमय कथा का वाचन हुआ। वही गौ भक्त महिलाओं का दिनभर भजन कीर्तन चल रहा है । ग्रामीण व शहरी क्षेत्र से आम व खास लोगों का धरने पर आकर समर्थन देने का सिलसिला आज भी जारी रहा। धरना स्थल पर गौ हमारी माता है के नारों से गुंजायमान रहता है। धरना स्थल पर आये साधु-संतों का अंशुमानसिंह भाटी व गोप्रेमी देवकिशन चांडक ने माल्यार्पण कर अभिनन्दन किया ।

भाटी प्रवक्ता सुनील बांठिया ने बताया कि आज कोलायत से आई नाथ संप्रदाय के महंत बंक नाथ जी महाराज व सत्यानंद जी महाराज धरना स्थल पर आए व भाटी द्वारा दिए जा रहे धरने का धर्म अनुकूल बताया । इस अवसर पर महाराज ने गाय की महिमा का बखान करते हुए पूर्व मंत्री देवी सिंह भाटी के इस मुद्दे पर आन्दोलन करने के निर्णय को उचित ठहराते हुए अन्य धर्मानुरागी जनप्रतिनिधियों से भी खुलकर समर्थन देने की बात कही “महाराज ने कहा कि वे गोचर, ओरण बचाने की इस लड़ाई में इस धरने का पूर्ण समर्थन करते है। धरना स्थल पर पंडित गोपाल दास जी महाराज ने अपनी मधुर वाणी से भजनों की प्रस्तुति देकर गो प्रेमियों को मंत्रमुग्ध कर दिया।

 

बांठिया ने बताया धरना स्थल पर दोपहर को पंडित गिरीराज जोशी व उनकी मंडली द्वारा नानी बाई का मायरा का संगीतमय वाचन किया गया । आज धरना स्थल पर उपस्थित जन समुदाय को सम्बोधित करते हुए पूर्व मंत्री देवी सिंह भाटी ने कहा कि जिस हिसाब से गोचर, ओरण बचाओं आन्दोलन को पूरे प्रदेश व देश के गोप्रेमियों का समर्थन मिल रहा है वो गोचर बचाओं आन्दोलन के कार्यकर्ताओं के लिए उत्साहजनक है । भाटी ने कहा कि जो सरकारें जनमत के खिलाफ निर्णय लेती है वो ज्यादा दिन नहीं टिकती । सरकार समय रहते अपनी गलती को सुधार कर गोचर में पट्टे काटने के निर्णय को वापिस लें।

शनिवार को भी ग्रामीण क्षेत्र से गोचर, ओरण बचाने के इस धरने को समर्थन देने का सिलसिला अनवरत जारी रहा। शनिवार को कोलायत क्षेत्र के चानी, गोयलरी, इन्दों का बाला, भलूरी, गजनेर, माणकासर, सुरजड़ा, पलाना, गंगापुरा, गाढवाला, खारी चारनान, देशनोक, अक्कासर, मिठड़िया, बीठनोक, बज्जू से सैकड़ों ग्रामीणों ने आकर भाटी के धरने को अपना मुखर समर्थन दिया । आज धरना स्थल पर आने वालों में मुख्य रूप से धर्मेन्द्र सिंह भाटी बरसलपुर, सियाणा सरपंच मनोहरसिंह, कुशालसिंह सियाणा, नैमुसिंह चानी, सरपंच प्रतिनिधि सुजानसिंह सोढा, पूर्व सरपंच सियाणा अनिल रामावत, पूर्व सरपंच काववनी प्रेम कुमार, गणपतसिंह पड़िहार नागौर, रामसिंह पडिहार, इसके अलावा पलाना से जगदीश गोदारा, कर्नल हेमसिंह, किसान नेता नरेन्द्र आर्य, कन्हैयालाल पालीवाल, रमेश खत्री, पूर्व सरपंच प्रतिनिधि गुड़ा रामसिंह, हेतराम डूडी गौडू, मेघराज पंचारिया मियाकौर, जगदीश जाजड़ बीठनोक, सहित सैकड़ों लोगों ने आकर गोचर बचाने के इस धरने का समर्थन किया । शनिवार को धरना स्थल पर सुमित्रा पारीक, लक्ष्मी देवी राजपुरोहित, पुष्पा सुथार, सायर कंवर ने भजनों की प्रस्तुति दी।

Like Subscribe and Share